Windows क्या होता हैं? विंडोज कितने प्रकार के होते हैं? जानिए विंडोज की पूरी जानकारी

हेलो दोस्तों, विंडोज के बारे में तो आपने सुना ही होगा। विंडोस को इस्तेमाल भी कंप्यूटर या लैपटॉप में जरूर किया होगा। और कई लोगों ने विंडोज का फोन इस्तेमाल किया होगा। लेकिन क्या आपको विंडोज की पूरी जानकारी है। क्या आपको पता है विंडोज क्या होते हैं? विंडोज कितने प्रकार के होते हैं? इसका इतिहास क्या हैं? इत्यादि। आज हम इस पोस्ट के माध्यम से आपको विंडोज की पूरी जानकारी दे रहे हैं। 
Windows क्या होता हैं? विंडोज कितने प्रकार के होते हैं? जानिए विंडोज की पूरी जानकारी
विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम लगभग सभी इस्तेमाल करते हैं, आर विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम वाले स्मार्टफोन को भी काफी लोगों ने इस्तेमाल किया होगा। पर किसी को विंडोस के बारे में जानकारी नहीं होती है। इसलिए आज हम इस पोस्ट में आपको विंडोज के बारे में बताएंगे। अगर आप एक स्टूडेंट है या कंपटीशन की तैयारी कर रहे हैं, तो विंडोज के बारे में जानना आपके लिए बहुत जरूरी है। तो चलिए विंडोस की पूरी जानकारी जानते हैं।

विंडोज क्या है ?

विंडोज (Windows), एक ग्राफिकल इंटरफेस ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसे माइक्रोसॉफ्ट कॉर्पोरेशन कंपनी द्वारा बनाया गया है। विंडोज एकल उपयोगकर्ता (Single User) के लिए बनाया गया 32 बिट मल्टीटास्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम है। इसका प्रयोग मुख्य रूप से पीसी (Personal Computer) में किया जाता है। यह ग्राफिकल यूजर इंटरफ़ेस (GUI) तथा ग्राफिकल आइकन के प्रयोग से सुविधाजनक प्रोग्राम क्रियान्वयन, उपयोगकर्ता तथा कंप्यूटर के बीच बेहतर समन्वय तथा मल्टीमीडिया आदि की सुविधा प्रदान करता है।

विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम में एक साथ कई विंडो खोल सकते हैं, तथा उनमें अलग-अलग कार्य संपादित कर सकते हैं। माउस या की-बोर्ड की सहायता से एक विंडो से दूसरे विंडो में आसानी से आ-जा सकते हैं। विंडोस एक बहुत ही प्रसिद्ध, यूजर फ्रेंडली और सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाली ऑपरेटिंग सिस्टम है। जो कि अपने ग्राफिकल डिस्प्ले और दूसरे फीचर्स की वजह से लोगों के बीच बहुत ज्यादा प्रसिद्ध है।

इस ऑपरेटिंग सिस्टम का नाम विंडोस इसलिए रखा गया क्योंकि इसमें प्रत्येक सॉफ्टवेयर एक आयताकार ग्राफिक्स बॉक्स के रूप में खुलता है, जो किसी खिड़की की चौखट जैसा दिखता है और जिसके माध्यम से हम आज कंप्यूटर को केवल कीबोर्ड किए से टाइप होने वाले अक्षरों से निकलकर एक नए वातावरण के रूप में देख पाए। यह graphical environment कंप्यूटर की दुनिया को रोचक और सरल बनाने के लिए बहुत उपयोगी साबित हुए है।

 Read More 
>> इन्टरनेट क्या हैं? इन्टरनेट कैसे काम करता हैं? इन्टरनेट की पूरी जानकारी
>> नेटवर्क क्या हैं? नेटवर्क के प्रकार?

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है ?

ऑपरेटिंग सिस्टम को शॉर्ट (Short) में OS कहते हैं। ऑपरेटिंग सिस्टम एक ऐसा कंप्यूटर सॉफ्टवेयर प्रोग्राम होता है, जो अन्य कंप्यूटर प्रोग्राम का संचालन करता है। यह कंप्यूटर का एक ऐसा सिस्टम होता है, जो यूजर्स और कंप्यूटर के बीच एक मध्यस्तर का कार्य करती है। ऑपरेटिंग सिस्टम किसी भी कंप्यूटर को कार्य करने लायक बनाता है, और हार्डवेयर के अंदर बहुत से दूसरे सॉफ्टवेयर प्रोग्राम को स्टोर करके उन्हें चलने की सुविधा प्रदान करता है।

ऑपरेटिंग सिस्टम पूरे कंप्यूटर का नियंत्रण एवं संचालन कर्ता है। इसके द्वारा कंप्यूटर का प्रबंधन (Management) किया जाता है। किसी भी कंप्यूटर को बिना ऑपरेटिंग सिस्टम के नहीं चलाया जा सकता और ना ही इस्तेमाल किया जा सकता है।

विंडोज का इतिहास?

माइक्रोसॉफ्ट ने अपना पहला ग्राफिकल यूजर इंटरफेस ऑपरेटिंग सिस्टम Windows 1 के नाम से वर्ष 1985 में जारी किया था। इससे पहले 1980 के दशक में जेरॉक्स कॉरपोरेशन (Xerox Corporation) नामक कंपनी द्वारा ग्राफिकल यूजर इंटरफेस पर आधारित ज़ेरॉक्स स्टार (Xerox Star) नामक कंप्यूटर का विकास किया गया। परंतु ग्राफिकल यूजर इंटरफ़ेस को लोकप्रियता एप्पल कंप्यूटर द्वारा विकसित मैंकिंटोस (Macintosh) कंप्यूटर द्वारा मिली। माइक्रोसॉफ्ट द्वारा विकसित किए गए विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम :

Windows 1
Windows 1, Microsoft का पहला ऑपरेटिंग सिस्टम था जिसे माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के मालिक बिल गेट्स (Bill Gates) द्वारा सन 1985 में जारी (Released) किया गया। माइक्रोसॉफ्ट का यह पहला ग्राफिकल यूजर इंटरफेस ऑपरेटिंग सिस्टम था। इस विंडो में बेसिक फंक्शन जोड़े गए थे जैसे - कैलेंडर, कैलकुलेटर, MS Paint, वर्ड प्रोसेसर, आदि।

Windows 2.0
Windows 2.0, माइक्रोसॉफ्ट कारपोरेशन की दूसरी अपडेटेड ऑपरेटिंग सिस्टम थी जिसे कंपनी के मालिक बिल गेट्स द्वारा सन 1987 में लॉन्च किया गया। यह कहा जाता है की विंडोज 2.0 , विंडोज 1 के मुकाबले ज्यादा बेहतर नहीं था। हालांकि, विंडोज 2.0 में कुछ Innovative Updates किए गए थे, पर फिर भी विंडोज 1 ज्यादा बेहतर माना जाता था। विंडोज 2.0 में प्रोग्राम को मिनिमाइज (Minimize) और मैक्सिमाइज (Maximize) करने की सुविधा प्रदान की गई।

विंडोस 2.0 में 286 प्रोसेसर सपोर्ट करता था लेकिन इसे और ज्यादा बेहतर बनाने के लिए माइक्रोसॉफ्ट ने एक नया वर्जन Provisional Version Windows 2.0 रिलीज किया, जिसे Windows/386 2.03 के नाम से जाना गया, जो 386 प्रोसेसर को सपोर्ट करता था। यह Video Graphic Array (VGA) डिस्प्ले पर चलता था, जिसकी रिजॉल्यूशन 640 X 480 थी।

Windows 3.0
Windows 3.0 ऑपरेटिंग सिस्टम को वर्ष 1990 में लॉन्च किया गया। पिछले दोनों विंडोज को अपग्रेड करके इस विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम को लाया गया। इसमें ग्राफिकल यूजर इंटरफेस (GUI) को भी अपडेट किया गया। इस ऑपरेटिंग सिस्टम में Virtual Memory, Improved Graphics और Multitasking जैसी Ability होने के कारण, इसकी बिक्री 10 मिलियन तक हो गई थी, जिस कारण यह वर्जन बहुत ज्यादा प्रसिद्ध हो गया था।

माइक्रोसॉफ्ट की यह पहली विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम थी जिसमें हार्ड डिस्क (Hard Disk) लगती गई थी। और साथ ही इसमें सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट किट (Software Development Kit - SDK) भी जोड़ा गया। जिससे डेवलपर्स (Developers) को काफी ज्यादा मदद मिली, अब डेवलपर्स इस विंडोज के जरिए एप्लीकेशन और सॉफ्टवेयर डेवलप (Develop) कर पाते।


Windows 3.1
Windows 3.1, विंडोज 3.0 के कुछ गमियों को सुधारते हुए Upgrade किया गया। इस विंडो को वर्ष 1992 में लॉन्च किया गया। इसमें कुछ खामियों को दूर किया गया और नए Improved Font जोड़े गए। इसमें 1MB RAM लगाई गई। साथ ही इसमें पहली बार MS-DOS को माउस के जरिए Control करना आसान हो गया। आपको बता दें कि, यह माइक्रोसॉफ्ट का पहला विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम था जिसमें RAM और CD-ROM लगाया गया।

पहली बार इसमें 1MB की RAM और 15MB की Hard Disk लगाई गई थी। इसमें प्रोग्राम्स को close करने के लिए Red X Button की सुविधा प्रदान की गई थी। इसके अलावा किसी हैंग प्रोग्राम (Hang Program) को बंद करने के लिए CTRL+Alt+Del के जरिए Task Manager को Open करने की सुविधा भी इसमें प्रदान कि गई।

 Read More 
>> डाटाबेस और डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम क्या हैं? DBMS की पूरी जानकारी?
>> सॉफ्टवेयर और उसके प्रकार? सॉफ्टवेयर की पूरी जानकारी

Windows 95
Windows 95 को माइक्रोसॉफ्ट कॉरपोरेशन ने वर्ष 1995 में लॉन्च किया था। इस Upgradation से Windows को पूरी तरह से बदल दिया गया। पहली बार स्टार्ट बटन (Start Button) और स्टार्ट मैन्यू (Start Menu) को इस वर्जन में शामिल किया गया, साथ में टास्कबार (Taskbar) को भी जोड़ा गया। यह पहला ऑपरेटिंग सिस्टम था जिसमें Long File Name को Support किया। यहां से 32-Bit की शुरुआत हुई, इससे पहले सभी विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम में 16 बिट मल्टीटास्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम थी। पर यहां से विंडोज 32-Bit OS पर काम करने लगी।

Windows 98
Windows 98, को माइक्रोसॉफ्ट कॉरपोरेशन ने वर्ष 1998 में लॉन्च किया था। इस वर्जन को विशेषकर उपभोक्ताओं को ध्यान में रखते हुए डिजाइन किया गया था। इसमें DVD Drive और USB Port जोड़े गए। इसके अलावा इसमें Windows Explorer में Address Bar जोड़े गए और Back & Forward Navigation Button जोड़े गए।

Microsoft Windows ME
इस ऑपरेटिंग सिस्टम को वर्ष 2000 में रिलीज किया गया। यह विंडोज का Millennium Edition (ME) का आखरी OS था, जिसे MS-Dos के साथ Build किया गया था। Windows ME में System Restore की सुविधा जोड़ा गया। जिसके बाद Delete किए गए Data को भी Restore करना आसान हो गया। इसमें Internet Explorer (IE 5.5), Windows Media Player और Windows Movie Maker को पहली बार इसी वर्जन के साथ उतारा गया।

Windows 2000
इस विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम को वर्ष 2000 में लॉन्च किया गया। इसमें Disk Defragmenter और Device Manager जैसी Advanced Feature को जोड़ा गया। यहां से Windows की Automatic Updating फीचर को add किया गया, इसके अलावा इसमें Hibernation Feature का Support दिया गया। माइक्रोसॉफ्ट के इस ऑपरेटिंग सिस्टम में कई सारे डिवाइसेज को जोड़ कर Plug और Play किया जा सकता था।

Windows XP
Windows XP को माइक्रोसॉफ्ट कॉरपोरेशन कंपनी द्वारा वर्ष 2001 में लॉन्च किया गया। यह माइक्रोसॉफ्ट का सबसे ज्यादा प्रसिद्ध (Popular) ऑपरेटिंग सिस्टम है। इसे सबसे ज्यादा और Best User Friendly Operation System के रूप में पहचाना जाता है । माइक्रोसॉफ्ट की अब तक की सबसे ज्यादा बिकने वाली और Best Selling OS Windows XP ही हैं।

इसमें Start Menu और Taskbar को अपडेट करके इसे नया डिजाइन प्रदान किया। इसके साथ ही Start Button को Familiar Green Colour में लाया गया। इसमें गई सारे ग्राफिकल अपग्रेडेशन किए गए, और कई Vista Wallpaper, कई सारे Shadow Effects, Visual Effects और Familiar Green Taskbar भी प्रदान किए गए। इसके अलावा कई एडवांस फीचर जैसे - Clear-type, CD Burning, Auto-play, Etc. को भी इस विंडोज के साथ जोड़े गए थे। कंपनी ने Windows XP की Last Update 2014 में दी, उसके बाद इसकी अपडेट पूरी तरह से बंद कर दी गई।

Windows Vista
Windows Vista को वर्ष  2006 में लॉन्च किया गया। इस ऑपरेटिंग सिस्टम में बहुत सारे अपडेट किए गए। इसमें सिक्योरिटी सिस्टम को बहुत ज्यादा मजबूत किया गया। Data Protection के लिए इसमें BitLocker Drive Encryption प्रदान किया गया। साथ ही मनोरंजन के लिए Photograph Customization, Video Editing, Better Display Design और Media Player में Enhancement को Upgrade किया गया।

इसमें Photo Gallery, Speech Recognition, Windows DVD Maker को भी Add किया गया। Windows Media Player 11 और Internet Explorer 7 को अपडेट करके जोड़ा गया। साथ ही इसमें एक Antivirus Program, Windows Defender के नाम से जोड़ा गया। माइक्रोसॉफ्ट का यह पहला ऑपरेटिंग सिस्टम है जैसे मार्केट में DVD में उतर गया, और Distribute किया गया।

Windows 7
Windows 7 को माइक्रोसॉफ्ट कारपोरेशन ने वर्ष 2009 में लॉन्च किया। Windows 7 को बहुत ही आसान और सरल बनाया गया। यह उपयोग में बहुत ज्यादा तेज और आसान है। विंडोज एक्सपी के बाद सबसे ज्यादा प्रसिद्ध विंडोज 7 ऑपरेटिंग सिस्टम है। इसमें भी कई बदलाव किए गए। कई सारे Basic और Advance Upgradation के बाद Windows 7 को यूजर्स के लिए लॉन्च किया गया।

इसमें Music, Video और Photos को कंप्यूटर से स्टरियो (Stereo) या TV पर Streaming जैसी फीचर को यूजर्स के लिए Add किया गया। इसके अलावा इसमें Internet Explorer 8 और Handwriting Recognition फीचर को जोड़ा गया। इस ऑपरेटिंग सिस्टम में Photo Flipping, फाइल्स या फोल्डर्स को लॉक करने जैसी एडवांस फीचर को भी जोड़ा गया।

Windows 8
Windows 8 को वर्ष 2012 में लॉन्च किया गया। यह विंडोज 7 का अपग्रेड वर्जन हैं। इस upgradation के साथ एक बार फिर विंडोज को पूरी तरह से बदल दिया गया। Windows 8 की Graphical Display को पूरी तरह से बदल दिया गया। जिसमें Start Button और Start Menu में सबसे ज्यादा बदलाव किया गया। इसमें माइक्रोसॉफ्ट ने अपने कुछ In-Build Default Program जैसे - News, Weather, Messenger, People, Being, Microsoft App Store, Etc. को Add किया।

पुराने सभी विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम की तुलना में विंडोज 8 बहुत ज्यादा फास्टर (Faster) कार्य करती हैं। इसमें USB 3.0 Devices का Support दिया गया। इसमें Touch Friendly Screen प्रस्तुत किया गया। Programs Lists की स्थान पर Programs icon और Live Tiles Interface को अपडेट करके इसमें लाया गया। इसके अलावा इसमें कई नई टेक्नोलॉजी को भी शामिल किया गया है।

Windows 10
Windows 10 को वर्ष 2015 में लॉन्च किया गया। Windows 10 माइक्रोसॉफ्ट की आज या 26 दिसंबर 2019 तक की सबसे Latest Operating System हैं। पुराने विंडोस में Miss हुए Features को Windows 10 में इंस्टॉल किया गया है। और इसके अलावा इसमें बहुत से नए फीचर्स को भी ऐड किया गया है। साथ ही Windows 10 की खास बात यह है कि इसमें लगातार Updates आती रहती हैं।

Windows 7 और Windows 8 के फीचर्स को मिलाकर windows 10 बनाया गया है। विंडोज 7 की तरह इसमें Start Button और Start Menu दिया गया है। हालांकि, स्टार्ट बटन विंडोज 7 से काफी अलग और अपडेटेड हैं। विंडोज 10 में Microsoft Edge Browser भी ऐड किया गया है। इसके अलावा इस विंडोज में अपने PC को Tablet Mode में भी Switch कर सकते हैं।

विंडोज के प्रकार?

विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम कई प्रकार के होते हैं। Windows OS निम्न प्रकार के हो सकते हैं :-

1) Single User OS
सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम में एक समय में केवल एक ही व्यक्ति कंप्यूटर का इस्तेमाल कर सकता है। यह सिंगल यूजर यानी कि एक व्यक्ति के लिए होता है। किसी एक समय में केवल एक व्यक्ति PC पर कार्य कर सकता हैं।

2) Multiple User OS
मल्टीपल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम में एक समय में एक या एक से अधिक लोग कंप्यूटर पर साथ में काम कर सकते हैं। मल्टीपल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल बड़ी-बड़ी कंपनियों, संस्थाओं, कॉलेजों, अस्पताल आदि में किया जाता है।

3) Multitasking OS
मल्टीटास्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम में एक समय में दो या दो से अधिक प्रोग्रामों को कंप्यूटर पर चलाया जा सकता है। जैसे - एक समय में इंटरनेट पर कार्य भी कर सकते हैं और साथ ही साथ गाने भी सुन सकते हैं।

 Read More 
>> कंप्यूटर का इतिहास और विकास? History & Development of Computer
>> कंप्यूटर का परिचय, परिभाषा, विशेषताएं? कंप्यूटर का सम्पूर्ण ज्ञान

माइक्रोसॉफ्ट विंडोज की विशेषताएं

माइक्रोसॉफ्ट विंडोज ग्राफिकल इंटरफेस (GUI) ऑपरेटिंग सिस्टम है।
 विंडोज को बहुत ही सरल और आसान बनाया गया है। इस कारण, इसे हर वर्ग, आयु का व्यक्ति बड़ी आसानी से समझ सकता है और चला सकता है।
 MS-DOS में सभी कार्य को Command के जरिए किए जाते थे, पर Windows के आने से Mouse से कार्य करना आसान हो गया।
 विंडोज में ऑटोमेटिक अपडेट का फीचर दिया गया है। ऑपरेटिंग सिस्टम को सुरक्षित और Up-to-Date रखने के लिए यह फीचर काफी अहम रोल निभा रहा है।
 इसमें Taskbar होता है, जहां पर सभी खुली हुई प्रोग्राम के आइटम दिखते हैं। जिसकी मदद से दूसरे प्रोग्राम पर आसानी से Switch किया जा सकता है।
 विंडोस के बिना कंप्यूटर को चला पाना संभव नहीं है, इसलिए विंडोस का कंप्यूटर में इंस्टॉल होना जरूरी है।
 विंडोज दूसरी ऑपरेटिंग सिस्टम के मुकाबले ज्यादा कंपैटिबल (Compatible) है। पुराने वर्जन में इस्तेमाल किए जाने वाले प्रोग्राम, नए वर्जन में भी सपोर्ट करता है।

Conclusion

तो दोस्तों, अब आप विंडोज के बारे में सब कुछ जान गए होंगे। Windows Kya Hai? विंडोज की विशेषताएं? विंडोज का इतिहास? इत्यादि। उम्मीद करता हूँ की आपको पोस्ट पसंद आई होगी। और मेरे बताये गए सभी बाते आपको समझ में भी आ गयी होंगी। अगर आपके मन में अभी भी कोई सवाल है, तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते है। पोस्ट पसंद आई हो तो प्लीज इस पोस्ट को अपने सभी दोस्तों के साथ सोशल मीडिया में जरूर शेयर करें। इसके अलावा THG को Follow करके सभी नए पोस्ट की जानकारी लगातार प्राप्त कर सकते है। 
Thanks / धन्यवाद 

सम्बंधित पोस्ट :

tech hindi gyan logo
Windows क्या होता हैं? विंडोज कितने प्रकार के होते हैं? जानिए विंडोज की पूरी जानकारी Windows क्या होता हैं? विंडोज कितने प्रकार के होते हैं? जानिए विंडोज की पूरी जानकारी
5 stars - This Article is Really Very Informative and Very Nice.

No comments:

We Request to all our Lovely Viewers & Readers, Please do not put any kind of Links in the Comments. Otherwise will not be approved !!!

हम अपने सभी प्यारे दर्शकों और पाठकों से अनुरोध करते हैं, कृपया टिप्पणियों में किसी भी प्रकार के लिंक न डालें। अन्यथा मंजूर नहीं किया जायेगा !!!

Powered by Blogger.